मकर संक्रांति में पतंग उड़ाने की सबसे बड़ी वजह

मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने का प्रचलन बहुत ही पुराना है, जिसकी वजह से मकर संक्रांति को पतंग पर्व के नाम से भी जाना जाता है. देश के अलग-2 हिस्सों में इस दिन पतंग उड़ाई जाती हैं.

मकर संक्रांति में पतंग उड़ाने की सबसे बड़ी वजह
Google

हम सभी जानते है की मकर संक्रांति हिन्दुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है. मकर संक्रांति के दिन सूर्य उत्तरायण होता है. परंपराओं के मुताबिक, इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है और इसी के साथ सभी शुभ काम शुरू हो जाते हैं. संक्रांति अलग-2 जगह पर बहुत ही हर्षोउल्लास के साथ मनाई जाती है. फिर चाहे दिल्ली ,पंजाब या हरियाणा हो सभी जगह पर इस दिन को बहुत ही जोश के साथ मनाया जाता है. मकर संक्रांति को अनेक प्रकार का नामों से भी जाना जाता है. कई नामों से जानने वाले इस त्योहार को अलग-2 जगह पर मनाने के तरीका भी अलग है जैसे उत्तर भारत में खिचड़ी, पंजाब में लोहड़ी, साउथ में पोंगल के रूप में मनाया जाता है.

इस  दिन पतंग उड़ाने का चलन बहुत पहले से ही चला आ रहा है. इस दिन देश के अलग-2 हिस्सों में लोग पतंग उड़ाते है, जिसकी वजह से मकर संक्रांति को पतंग पर्व के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन छोटी दुकानें हो या बाज़ार सब रंग-बिरंगे पतंगों से सजे नज़र आते है. मकर संक्रांति वाले दिन लोग अपनी-2 छतों में चढ़कर रिश्तेदारों, दोस्तों के साथ पतंग उड़ाने का आनंद लेते है. 

क्यों उड़ाई जाती है पतंग-

मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने का धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों ही महत्व हैं. धार्मिक की बात करे तो ऐसी मान्यता है कि मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने की परंपरा भगवान श्री राम के समय में शुरू हुई थी. ऐसा माना जाता है की भगवान श्री राम ने इस दिन पतंग उड़ाई थी और तभी से यह परंपरा चली आ रही है. तमिल की तन्दनानरामायण के मुताबिक, मकर संक्रांति के दिन ही श्री राम ने पतंग उड़ाई थी और वो पतंग इन्द्रलोक में चली गई थी. भगवान राम की ओर से शुरू की गई इस परंपरा को आज भी निभाया जाता है. 

वहीं वैज्ञानिक कारण की बात करें तो पतंग उड़ाने का संबंध स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है. सूर्य के उत्तरायण के समय उससे निकलने वाली सूर्य की किरणें मानव शरीर के लिए औषधि का काम करती हैं। इसलिए पतंग उड़ाने से शरीर को लगातार सूर्य से उर्जा मिलती है जिससे हमारा शरीर और त्वचा संबंधी समस्याएं दूर रहती है। इसके अलवा पतंग उड़ाते समय कई व्यायाम एक साथ हो जाते है.