कहीं आप भी ऑनलाइन लिस्टिंग और सस्ते के चक्कर में फ़ेक पैकर्स और मूवर्स की ठगी का शिकार तो नहीं हो रहे?

यह ख़बर है आप के लिए ज़रूरी क्योंकि सस्ता पैकर्स और मूवर्स पड़ सकता है आप को बहुत महँगा!

कहीं आप भी ऑनलाइन लिस्टिंग और सस्ते के चक्कर में फ़ेक पैकर्स और मूवर्स की ठगी का शिकार तो नहीं हो रहे?
Be Aware of Fake Packers & Movers in India
कहीं आप भी ऑनलाइन लिस्टिंग और सस्ते के चक्कर में फ़ेक पैकर्स और मूवर्स की ठगी का शिकार तो नहीं हो रहे?
कहीं आप भी ऑनलाइन लिस्टिंग और सस्ते के चक्कर में फ़ेक पैकर्स और मूवर्स की ठगी का शिकार तो नहीं हो रहे?
कहीं आप भी ऑनलाइन लिस्टिंग और सस्ते के चक्कर में फ़ेक पैकर्स और मूवर्स की ठगी का शिकार तो नहीं हो रहे?
कहीं आप भी ऑनलाइन लिस्टिंग और सस्ते के चक्कर में फ़ेक पैकर्स और मूवर्स की ठगी का शिकार तो नहीं हो रहे?

लखनऊ: जब भी हम देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में रहने के लिए घर बदलते हैं या अपना कोई आॅफिस शिफ्ट करते हैं तो हमें अपने सामान को भिजवाने के लिए हमें पैकर्स और मूवर्स (Packers & Movers) की जरुरत पड़ती है। पिछले दिनों इस इंडस्ट्री में कई सारे फ़्रॉड और सेवाओं में गड़बड़ी की शिकायतें भी अखबारों में छपती रही हैं और अक्सर ग्राहकों को इस इंडस्ट्री के लोगों से बहुत शिकायतें रहती हैं।

MFI Meet, Lucknow, Anoop Mishra, Ajit Sharma, Jatin Gulati, Alok Bhargav & Ramesh Jhangra

ऐसे में हज़ारों करोड़ की असंजयोजित इंडस्ट्री की हालात सुधारने के लिए मूवर्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया यानी एम॰एफ़॰आई॰ (MFI) नाम की संस्था देशभर के शहरों के अनुभवी ट्रांस्पोर्टर, मूवर्स को जोड़कर वर्क्शाप, ट्रेनिंग और जागरूकता प्रोग्राम के माध्यम से इस इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के बेहतरी और गुणवत्ता निर्देशों के लिए लगातार काम कर रही है। बैंगलोर के अजित शर्मा की अगुआई में 2017-18 में बना फ़ेडरेशन आज देश में बंगलोर, मुंबई, पुणे, दिल्ली, कोलकाता, हैदराबाद, जैसे महानगरों के साथ जयपुर, बरेली और लखनऊ जैसे लगभग 200 शहरों में इस इंडस्ट्री के एक्स्पर्ट्स पैकर्स और मूवर्स को साथ जोड़ कर उनके माध्यम से रिलोकेशन इंडस्ट्री और उनसे जुड़े लोगों व ग्राहकों के हितों के लिए काम है।

15 जनवरी 2021, लखनऊ में हुए जागरूकता कार्यक्रम में एम॰एफ़॰आई॰ ने ग्राहकों को समयबद्ध डिलीवरी पर सामान पहुंचाने, उनके कीमती और व्यक्तिगत समान की बेहतर देखभाल, उसके इंश्योरेंस और ग्राहकों की शिकायतों को समाप्त करने के उपायों पर विचार व्यक्त किया। फेडरेशन के सदस्यों के आपसी जुड़ाव और मिलकर काम करने पर बल देते हुए सदस्यों ने गलत काम करने वाले कंपनी मालिकों पर कठोर कार्यवाही करने की भी मांग उठाई। ग्राहकों द्वारा इंडस्ट्री से काम की क्वालिटी में कमी को लेकर व्याप्त सभी शिकायतों को दूर करने पर फेडरेशन ने गंभीरता से विचार किया। फेडरेशन ने जागरूक ग्राहकों से भी अपील की है कि सस्ते के लालच में आकर किसी भी अंजान कंपनी को अपने घर का सामान न दें और ऑनलाइन लिस्टिंग पोर्टल से मिले किसी भी कंपनी की पूरी जांच पड़ताल करने के बाद ही उस पर विश्वास करें भले उसने उस पोर्टल की प्रीमियम लिस्ट ले रखी हो!

देश के जाने माने सोशल मीडिया पी॰आर॰ एक्सपर्ट व सह संस्थापक सदस्य अनूप मिश्रा ने बताया कि '' फेडरेशन के अनुसार एम॰एफ़॰आई॰ को पूरी दुनिया में एक विश्वसनीय ब्रांड के रुप में स्थापित करने की योजना पे हम लगातार काम कर रहे है। रिलोकेशन इंडस्ट्री में सेवाओं के स्तर को सुधारने के लिए लेटेस्ट टक्नोलाॅजी की मदद से ग्राहकों की शिकायतों को दूर किया जा रहा है। और इसी उद्देश्य में अप्रेल 2021 में एमफ़ाइंड डॉट नेट (www.mfind.net) पोर्टल के माध्यम से ग्राहकों को सिंगल पोईँट कम्यूनिकेशन की सुविधा भी उपलब्ध करा रही है, जिसमें ग्राहक अपने द्वारा बुक किए गए फ़ेडरेशन के किसी भी पैकर्स और मूवर्स की सेवाओं व अपनी बुकिंग को लाईव जी॰पी॰एस॰ पे ट्रेकिंग करने के साथ, वेयर हाउस का चुनाव व ट्रांजिट इश्योरेंस सेवाओं की जानकारी लेने के साथ उसके लिए भुगतान भी कर पाएँगे।

फेडरेशन के मंच से देश के विभिन्न हिस्सों से आए अन्य सह संस्थापकों में जतिन गुलाटी, रमेंश जांगड़ा, अनुज शर्मा और आलोक भार्गव ने फेडरेशन की बेहतर कार्यप्रणाली और संगठनात्मक वृद्धि पे अपने विचार दिए और बताया की कैसे एम॰एफ़॰आई॰ रिलोकेशन इंडस्ट्री और उनसे जुड़े लोगों व ग्राहकों की बेहतरी व हितों के लिए रात दिन काम कर रहा है।

अनजान पैकर्ज़ मूवर्स को भुगतान देने से पहले इन बातों का रखें ध्यान तो नहीं होगा नुक़सान-